Free Porn eşya depolama pornhub Galabetbonuslari.com Galabetadresi.com Galabetcasino.com Vipparkbahissitesi.com Vipparkcanlicasino.com Vipparkcanlislotsitesi.com Deneme bonusu veren siteler Deneme bonusu veren siteler Deneme bonusu veren siteler Deneme bonusu veren siteler Deneme bonusu veren siteler paper.io yohoho.io yohoho unblocked io games unblocked 1v1.lol unblocked io games unblocked google sites slope play unblocked games io games padisahbetgirisyap.com padisahbetgirisadresi.net padisahbetbahis.net padisahbetcasino.com deneme bonusu
होमहज़रत मुहम्मद (स अ व)क्या हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने अपनी एहलियाओं पर हाथ उठाया...

क्या हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने अपनी एहलियाओं पर हाथ उठाया है?

हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने 12 शादियां कीं लेकिन अपनी पत्नियों को कभी नहीं मारा। मारपीट करने वालों की निंदा की, इस संदर्भ में, वह चाहते थे कि महिलाओं के मुताल्लिक़ अल्लाह से डरते रहना चाहिए, उनके साथ अन्याय नहीं करना चाहिए और उनके साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए। आप (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने कहा, “आप में से सबसे अच्छे वे लोग हैं जो अपनी पत्नियों/औरतों के लिए सबसे अच्छे हैं[1]।”

हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने अपनी पत्नियों के साथ होने वाली समस्याओं में कभी भी पिटाई को एक विधि के रूप में इस्तेमाल नहीं किया और इसकी सलाह भी नहीं दी। हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने अपनी पत्नियों के साथ समस्याओं के प्रबंधन के तरीके में मारपीट को कोई विकल्प के रूप में नहीं देखा है।

हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) हज़रत हफ़्सा को एक राज़ की बात बताते हैं। लेकिन, हज़रत हफ़्सा (रज़ियल्लाहु अन्हा) इस रहस्य को हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) की अन्य पत्नियों के साथ साझा करती हैं, और यह स्थिति हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) को पता चलती है[2]।इस घटना के समय, हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) की पत्नियाँ एक-दूसरे से ईर्ष्या (मत्सर) करती थीं, भले ही उनके साथ उचित व्यवहार किया जाता था, और उन्होंने हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) पर इस ईर्ष्या को दर्शाया।हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने इन समस्याओं के कारण अपनी पत्नियों से एक महीने तक दूर रहने की कसम खाई थी। वह मेश्रेबे नाम के एक हुजरा; (वह कोठरी, जिसमें बैठ कर ईश्वर का ध्यान किया जाता हो, मस्जिद से मिला हुआ छोटा सा कमरा) में अकेला रहे[3]

इफ्क (हज़रत आयशा प्रति तोहमत का वक़िया) के मामले को हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) की अपनी पत्नियों के साथ होने वाली समस्याओं के उदाहरण के रूप में दिया जा सकता है।इफ्क शब्द का अर्थ है बदनामी, झूठ। और यह ऐसे हुआ है: गज़वा-ए- मुस्तलिक के बाद इस्लामिक सेना आराम करने के लिए रुकी हुई थी।प्रवास के दौरान हज़रत आयशा (राज़ी.)अपनी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए सेना से दूर चली जाती हैं और साथ ही उनका हार  कहीं गिर जाता है।हार की तलाश में काफी समय लगता है। जब वह उस स्थान पर पहुँचती हैं जहाँ सेना का डेरा था, वह देखती हैं कि सेना आगे बढ़ चुकी है और वहाँ प्रतीक्षा करना शुरू कर देती हैं, यह विश्वास करते हुए कि जब वे इसकी अनुपस्थिति का एहसास करेंगे तो वे बाहर निकलेंगे; इस बीच इंतज़ार करते हुवे उन्हें नींद आजाती है। सफ़वान बिन मुअत्तल एस-सुलेमी, सेना के एक रियरगार्ड (जो आगे चले जाने  वाले दल की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पीछे होता है ), उन्हें  शिविर स्थल की जाँच के दौरान पाता चलता है, और हज़रत आइशा रजी. को  अपने ऊंट पर बिठाते  हैं  और उन्हें  सेना के लिए प्रशिक्षित करते  हैं; लेकिन, वह तेजी से चलने के बावजूद, काफिले में तभी शामिल हो पाते हैं जब काफिला  विराम करने के लिए रुकता है क्योंकि वह खुद पैदल होते हैं। प्रश्न में देरी की व्याख्या दुर्भावनापूर्ण लोगों द्वारा अनैतिक के रूप में की जाती है। सफर से वापसी के बाद एक महीने तक बीमार रहने वाली हज़रत आयशा (राज़ी.) ने यह गपशप नहीं सुनी थीं। इस गपशप को सुनकर, हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने अपने आस-पास के लोगों के साथ निर्णय लेने के लिए सलाह लेते हैं। उन्होंने जिन लोगों से परामर्श किया वे लोग हज़रत आयशा को करीब से जानते थे। इन लोगों ने कहा कि हज़रत आयशा (राज़ी.) की नैतिकता अच्छी है, लेकिन वह युवा होने के कारण अविवेकपूर्ण ढंग से काम कर सकती हैं। हज़रत मुहम्मद, हज़रत आयशा के पास गए  और कहा, “यदि आप निर्दोष हैं, तो अल्लाह आपकी मासूमियत के बारे में बता देगा, यदि आपने पाप किया है, तो पश्चाताप करें और क्षमा मांगें; अल्लाह पश्चाताप करने वाले को क्षमा करता है। ” हज़रत आयशा ने कहा कि हज़रत मुहम्मद अफवाहों में विश्वास कर चुके हैं  और इसलिए उन्होंने जो कुछ भी कहा, उस पर उन्हें संदेह होगा, और कहा कि उनके पास अल्लाह से मदद माँगने के अलावा कोई विकल्प नहीं है[4]।इसके बाद, अल्लाह ने वही के ज़रिये बताया की हज़रत आइशा  पर लगाया गया इलज़ाम झूट है और हज़रत आइशा  बिलकुल मासूम हैं: “बेशक जिन लोगों ने झूठी तोहमत लगायी वह तुम्ही में से एक गिरोह है तुम अपने हक़ में इस तोहमत को बड़ा न समझो बल्कि ये तुम्हारे हक़ में बेहतर है इनमें से जिस शख्स ने जितना गुनाह समेटा वह उस (की सज़ा) को खुद भुगतेगा और उनमें से जिस शख्स ने तोहमत का बड़ा हिस्सा लिया उसके लिए बड़ी (सख्त) सज़ा होगी। और जब तुम लोगो ने उसको सुना था तो उसी वक्त ईमानदार मर्दों और ईमानदार औरतों ने अपने लोगों पर भलाई का गुमान क्यो न किया और ये क्यों न बोल उठे कि ये तो खुला हुआ बोहतान है। और जिन लोगों ने तोहमत लगायी थी अपने दावे के सुबूत में चार गवाह क्यों न पेश किए फिर जब इन लोगों ने गवाह न पेश किये तो ख़ुदा के नज़दीक यही लोग झूठे हैं। और अगर तुम लोगों पर दुनिया और आख़िरत में ख़ुदा का फज़ल (व करम) और उसकी रहमत न होती तो जिस बात का तुम लोगों ने चर्चा किया था उस की वजह से तुम पर कोई बड़ा (सख्त) अज़ाब आ पहुँचता, कि तुम अपनी ज़बानों से इसको एक दूसरे से बयान करने लगे और अपने मुँह से ऐसी बात कहते थे जिसका तुम्हें इल्म व यक़ीन न था (और लुत्फ ये है कि) तुमने इसको एक आसान बात समझी थी हॉलाकि वह ख़ुदा के नज़दीक बड़ी सख्त बात थी। और जब तुमने ऐसी बात सुनी थी तो तुमने लोगों से क्यों न कह दिया कि हमको ऐसी बात मुँह से निकालनी मुनासिब नहीं सुबहान अल्लाह ये बड़ा भारी बोहतान है”[5]।जैसा कि ऊपर वर्णित घटनाओं से समझा जा सकता है, हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने अपनी पत्नियों के साथ होने वाली समस्याओं को मार-पीट कर हल नहीं किया।हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने कुरान में “महिलाओं के साथ अच्छा सलूक रवा रखो[6]।” के आदेश का बहोत ही मुहतात अंदाज़ में पालन किया।

कवर फोटो माजिद मजीदी द्वारा निर्देशित फिल्म “मुहम्मद: द मैसेंजर ऑफ गॉड” से ली गई है।


[1] तिर्मिज़ी, रज़ा, 11.

[2] तहरीम, 3.

[3] बुखारी, 7, 230.

[4] इब्न साद, अत-तबाकात, II, 63, 64, 65.

[5] नूर, 11-16.

[6] निसा, 19.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें