Free Porn
xbporn

buy twitter followers
uk escorts escort
liverpool escort
buy instagram followers
होममहत्वपूर्ण प्रश्नक्या इस्लामी देशों के पिछड़ेपन का संबंध इस्लाम धर्म से है?

क्या इस्लामी देशों के पिछड़ेपन का संबंध इस्लाम धर्म से है?

यह एक तथ्य है कि अधिकतर मुस्लिम देशों को अविकसित या विकासशील देशों का दर्जा प्राप्त है।इस स्थिति को कई पहलुओं में माना जा सकता है जैसे देश की राजनीतिक स्थिरता, इसका आर्थिक विकास, शिक्षा प्रणाली, इसका कानूनी प्रशासन और व्यक्तियों के बीच सामाजिक एकता।

मुसलमानों के इस्लाम धर्म के पालन और इन देशों के अविकसितता या विकास के बीच कोई संबंध नहीं है।क्योंकि इस्लाम धर्म कहता है कि एक मुसलमान को मेहनती, दृढ़ निश्चयी[1] और आशावान होना चाहिए[2]:”जिस तरह पुरुषों के पास काम करके जो कुछ कमाते हैं, उसका हिस्सा होता है, उसी तरह महिलाओं के पास काम करके कमाई का हिस्सा होता है। इसलिए काम करो और अल्लाह की कृपा से बेहतर चीजों की तलाश करो। इसमें कोई शक नहीं कि अल्लाह सब कुछ जानता है[3]।”

इस्लाम धर्म के अनुसार इंसान म्हणत के बक़द्र कमाएगा: “और ये कि इन्सान को वही मिलता है जिसकी वह कोशिश करता है[4]” इसके अलावा, हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) कहते हैं कि उन्होंने आलस्य से अल्लाह की शरण ली[5]।यह भी यहाँ ज़िक्र किया जाना चाहिए कि इस्लाम में, दुनिया परलोक का खेत है[6]

आख़िरत (परलोक) के अस्तित्व के लिए, मानव जीवन को पूरी तरह से जीना चाहता है क्योंकि वह इस दुनिया में अपनी पसंद के कारण परलोक में अपना लाभ प्राप्त करेगा। जब इस स्थिति को इस तथ्य से जोड़ दिया जाता है कि एक व्यक्ति को पता नहीं है कि वह कब मर जाएगा, तो मुसलमान हर पल को एक अवसर के रूप में देखता है। दूसरे शब्दों में, विश्वास मुसलमान को मेहनती होने के लिए प्रोत्साहित करता है: “जिन्होने (अपना हक़) (पूरा अदा) किया इन सहीफ़ों में ये है, कि कोई शख़्श दूसरे (के गुनाह) का बोझ नहीं उठाएगा। और ये कि इन्सान को वही मिलता है जिसकी वह कोशिश करता है।और ये कि उनकी कोशिश अनक़रीेब ही (क़यामत में) देखी जाएगी।फिर उसका पूरा पूरा बदला दिया जाएगा।और ये कि (सबको आख़िर) तुम्हारे परवरदिगार ही के पास पहुँचना है[7]”।

कुरान के लिए विशिष्ट इस्लाम धर्म भी लोगों को नई जानकारी सीखने के लिए प्रोत्साहित करता है। कुरान में बार-बार दोहराया जाता है। “क्या आप नहीं समझते?”, “क्या आप नहीं सोचते?” छंद लोगों को सोचने और सवाल करने के लिए प्रेरित करते हैं[8]

हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) पर नाज़िल होने वाली पहली आयत “पढ़ें!” है[9]। इस्लाम धर्म के अनुसार, यदि कोई मुसलमान उसके बाद उपयोगी कार्यों को छोड़ देता है, तो उसे मरने के बाद भी पुरस्कृत किया जाता रहेगा[10]। इस धर्म में, प्रत्येक मुसलमान, पुरुष या महिला के लिए ज्ञान प्राप्त करना अनिवार्य (वाजिब) है[11]। जैसा कि आप देख सकते हैं, इस्लाम अध्ययन और विज्ञान को बहुत महत्व देता है। इसलिए, मुस्लिम बहुसंख्यक देशों के पिछड़ेपन का उस धर्म से कोई संबंध नहीं है, जिसे वे मानते हैं।


[1] अल-ए इमरान, 186.

[2] सूरह यूसुफ, 87.

[3] सूरह निसा, 32.

[4] सूरह नजम, 39.

[5] बुखारी, जिहाद, 25, 74; मुस्लिम, दावत, 48, 52.

[6] अजलुनी, कशफूल-खफा, I/412.

[7] सूरह नजम, 38-42.

[8] सूरह अनाम, 50; नहल, 17; होद, 24.

[9] अलक, 1.

[10] तिर्मिज़ी, अहकाम 36.

[11] बेहकी, शुआबुल-इमान-बेरूत, 1410, 2/253.