Free Porn
xbporn

buy twitter followers
uk escorts escort
liverpool escort
buy instagram followers
होमहज़रत मुहम्मद (स अ व)हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने बहुविवाह क्यों किया?

हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने बहुविवाह क्यों किया?

हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम)[1] की विवाहित अज़्वाज-ए-मुतह्हरात के नाम इस प्रकार हैं: हज़रत ख़तीजा, हज़रत सवदा बिन्त (बेटी) ज़मआ, हज़रत आइशा, हज़रत हफ़्सा बिन्त उमर, हज़रत ज़ैनब बिनत खुज़ैमा, हज़रत ज़ैनब बिनत जाहेश, हज़रत उम्मे सलमा, हज़रत उम्मे हबीबा, हज़रत जुवेरिया बिन्त हारिस, हज़रत सफ़िया बिन्त हुयय, हज़रत मरियातुल-क़िब्तिय्या, हज़रत मयमुना बिन्त हारिस (रज़ियल्लाहु  अणहुंणा)।

हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) के निकाह में पहली पत्नी हज़रत खतीजा बीस साल तक रहीं और इस दौरान हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने दूसरी शादी नहीं की। हमें कह लेने दीजिये कि उस समय अरब लोगों के लिए यह एक बहुत ही असामान्य विकल्प था। क्योंकि उस समय अरब लोगों में यह आम बात नहीं थी कि एक पुरुष अपनी युवावस्था में एक ही महिला निकाह में रखे, जब की वह जैविक रूप से अपने आपको सबसे मजबूत महसूस करता हो।

हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने हज़रत ख़तीजा रज़ियल्लाहु ‘अन्हा से शादी की जब हज़रत ख़तीजा (राज़ी.) ने उन्हें प्रस्ताव दिया। हजरत खतीजा( राज़ी.) अपने समय की सुश्री महिलाओं में से एक थीं। उन्होंने हजरत मुहम्मद (सल्ल.) से पहले दो शादियां की थीं और इन शादियों से उनके बच्चे भी हुए थे। उनकी और हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) की उम्र में बहुत बड़ा अंतर है[2]।हजरत खतीजा (राज़ी.) की वफ़ात  के बाद करीब दो साल तक हजरत मुहम्मद (सल्ल.) ने शादी नहीं की[3]

हज़रत सवदा बिन्त (बेटी) ज़मआ (राज़ी.) अपने पति के निधन के बाद अपने बच्चों के साथ अकेली हो गईं। अपनी पहली पत्नी हजरत खतीजा (राज़ी.) की मृत्यु के ढाई साल बाद हजरत मोहम्मद (सल्ल.) ने घर में सन्नाटे के कारण हजरत सावदा (राज़ी.) को प्रस्ताव दिया। हज़रत सावदा (राज़ी.) 55 साल की थीं जब उन्होंने हज़रत मुहम्मद से शादी की[4]

हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) के  निकाह में सिर्फ एक कुंवारी खातून हज़रत आइशा (राज़ी.) रही हैं।उन्होंने हज़रत आइशा (राज़ी.) से शादी की क्योंकि हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) को घर पर अपनी स्थिति और इस्लामी राज्य और मुसलमानों के रहनुमा होने के कारण अपने कंधों पर रखे गए भारी बोझ को ढोने के लिए समर्थन की आवश्यकता थी[5]। वास्तव में, हज़रत आइशा (राज़ी.), जो बहुत बुद्धिमान और एक अच्छी पर्यवेक्षक थीं, उन सहाबिययात (साथियों) में से थीं जिन्होंने सबसे अधिक हदीसों को प्रसारित किया और मुस्लिम महिलाओं के लिए परिवार के बारे में कई जानकारी का स्रोत बनीं।

हज़रत हफ़्सा (राज़ी.) जिन्हें जन्नत की खुशखबरी दी गई थी, हज़रत उमर (राज़ी.) की बेटी हैं,और वह हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) के ख़लीफ़ाओं में से एक थे।उहुद की लड़ाई में हज़रत हफ़्सा (राज़ी.) के पति की मृत्यु के कारण, हज़रत उमर (राज़ी.) ने अपनी बेटी की शादी हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) से करदी थी[6]

बद्र की लड़ाई में हज़रत ज़ैनब बिन्त खुज़ैमा (राज़ी.) ने अपनी पत्नी को खो दिया। विधवा होने के कारण हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने उन्हें अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार कर लिया। तीन महीने तक साथ रहने के बाद हजरत ज़ैनब (राज़ी.) का देहांत हो गया[7]

हज़रत ज़ैनब बिन्त जहश (राज़ी.) की पहली शादी हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) के आज़ाद गुलाम हज़रत ज़ैद (राज़ी.) से हुई थी।यह विवाह पति-पत्नी के बीच समानता की कमी के कारण समाप्त हुआ[8]।हज़रत ज़ैनब की शादी अल्लाह के आदेश से हज़रत मुहम्मद से हुई थी[9]

उहुद की लड़ाई में अपने पति की मृत्यु के कारण हज़रत उम्मे सलामह (राज़ी.) चार बच्चों के साथ विधवा हो गईं।हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने उनकी  और उनके बच्चों की रक्षा के लिए उम्मे सलामह (राज़ी.) से शादी की[10]

हज़रत उम्मे हबीबा (राज़ी.) अबू सुफ़ियान[11] (राज़ी.) की बेटी हैं और अपने पति के साथ पहले मुसलमानों में से हैं। उम्मे हबीबा (राज़ी.) और उनके पति उन काफिले में शामिल थे जो इस्लाम के पहले काल में मक्का में मुसलमानों के उत्पीड़न के कारण एबिसिनिया चले गए थे। लेकिन, उनके पति  ने इस्लाम छोड़ दिया और एबिसिनिया में ईसाई बन गए। हालाँकि उम्म हबीबा (राज़ी.) ने बहुत कोशिश की, लेकिन वह अपने पति के विश्वास को नहीं बदल सकीं। अंत में, यह देखते हुए कि उनके  प्रयास निष्फल हैं, उनहों ने अपने पति को छोड़ दिया। यह सुनकर कि उम्म हबीबा (राज़ी.) विदेश में अकेली हैं, हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने उनसे शादी का प्रस्ताव रखा[12]

हज़रत जुवेरिया बिन्त हारिस (राज़ी.) बानो मुस्तलिक जनजाति के सरदार की बेटी हैं, जो मुसलमानों का दुश्मन था।इस जनजाति के मुसलमानों के साथ युद्ध में उनके  पति की मृत्यु हो गई और वह मुसलमानों की  बंदी बन गाईं।चूँकि वह अपना फ़िदया नहीं दे सकती थीं, इसलिए  उन्हों ने हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) से मदद माँगीं और हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने उनसे शादी का प्रस्ताव रखा।यह प्रस्ताव बंधन या विवाह के बीच कोई विकल्प नहीं था; यह घर लौटने या शादी करने के बीच एक विकल्प था। हज़रत जुवेरिया (राज़ी.) ने भी इस शादी के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया[13]

हज़रत सफ़िया बिन्त हुयय (राज़ी.) एक यहूदी जनजाति बेनी नज़ीर जनजाति के सरदार की बेटी थीं। खैबर के युद्ध के दौरान अपने पति को खो दिया और विधवा हो गईं। युद्ध के अंत में, वह मुसलमानों की कैदी बन गईं[14]। हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने हज़रत सफ़िया (राज़ी.) को इस्लाम के बारे में बताने के बाद, उन्हें दो विकल्पों में से चुनने के लिए कहा। विकल्प ये थे: यहूदी बने रहना और अपने कबीले में लौटना, या इस्लाम में परिवर्तित होना और हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) की पत्नी बनना। हज़रत सफ़िया (राज़ी.) ने मुसलमान बनना चुना और हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) से शादी कर लीं[15]

हज़रत मरिय्यातुल-क़िब्तिय्या (राज़ी.) मिस्र के शासक मुकावकी द्वारा हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) को भेजी गयीं जरियह में से एक हैं।मुस्लिम राजदूत ने मदीना लौटने पर इन दोनों जरियों को इस्लाम की व्याख्या की, और ये दोनों लड़कियां इस्लाम में परिवर्तित हो गईं और मुसलमान बन गईं। हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने इन जरियों में से एक मरिया (राज़ी.) से शादी की। हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) का हज़रत मरिया (राज़ी.) से इब्राहिम (राज़ी.) नाम का एक बेटा पैदा हुआ[16]

हज़रत मेमुना बिन्त हारिस  का असली नाम बर्रा था और हज़रत मुहम्म (सल्ल.) ने इस नाम को बदलकर मेमुना कर दिया। मेमुना (राज़ी.) ने हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) से पहले दो शादियाँ की थीं और हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने उनके अनुरोध पर इनसे शादी की थी।

कुरान में, हज़रत मुहम्मद (सल्ल.)  से शादी करने वाली अज़्वाज-ए-मुतह्हरात को सभी मुसलमानों की मां के रूप में वर्णित किया गया है: “नबी का हक़ ईमानवालों पर स्वयं उनके अपने प्राणों से बढ़कर है। और उसकी पत्नियों उनकी माएँ है”[17]

हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने केवल सांसारिक सुख के लिए शादी नहीं की। हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने अपने जीवन के अंतिम दस वर्षों में दस अज़्वाज-ए-मुतह्हरात और जरिया  मरिया (राज़ी.) से शादी की, जिन्हें मुक़्वक़िस ने उपहार के रूप में भेजा था। यदि हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) का विवाह सांसारिक सुखों के लिए होता तो वह अपने जीवन के अंतिम दस वर्षों में नहीं, बल्की  वह अपनी युवावस्था में एक से अधिक महिलाओं से विवाह करना पसंद करते।

ऐतिहासिक प्रक्रिया से पता चलता है कि एक महिला जिसके पति का निधन हो गया हो, वह अपने बच्चों के साथ जीवन जारी रखने, और अपना रक्षा करने में उसे   बहुत कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए, हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) का बड़ी उम्र की महिलाओं और बच्चों वाली महिलाओं के साथ विवाह करना अधिक समझ में आता है। इसके अलावा, हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) का युवा और अविवाहित लड़कियों के बजाय बच्चों के साथ रहने वाली ज़रूरतमंद, विधवा, बुजुर्ग महिलाओं से विवाह, जो उन्हें संतुष्ट कर सकते थे, यह भी दर्शाता है कि उन्होंने व्यक्तिगत संतुष्टि के लिए शादी नहीं की थी।

हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) का एक से अधिक स्त्रियों से विवाह; परिवारिक  कानून और महिलाओं की विभिन्न स्थितियों में लागू होने वाली सही प्रथाओं को सीखने जैसे विभिन्न लाभ प्रदान किए हैं।मुसलिम औरतें ऐसा सवाल जिसे  मर्दों से पूछने में झिझक महसूस करती थीं, वो सवाल आसानी से अज़वाज-ए- मुतह्हरात से पूछ लेती थीं[18]

हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) से शादी करने वाली कुछ महिलाओं के कबीले इस  रिश्तेदारी के कारण मुस्लिम बन गए[19]। इस प्रकार, इस्लाम का प्रसार तेज हो गया। हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) से अधिकांश महिलाओं ने हजरत मुहम्मद (सल्ल.) से विवाह किया जब वे कठिन परिस्थितियों में थीं। इन महिलाओं से शादी करके हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने उन्हें एक कठिन परिस्थिति से बचाया और इस संबंध में मुसलमानों के लिए एक मिसाल कायम की।


[1] कवर फोटो माजिद मजीदी द्वारा निर्देशित फिल्म “मुहम्मद: द मैसेंजर ऑफ गॉड” से ली गई है।

[2] हजरत मुहम्मद (सल्ल.) पच्चीस साल के थे जब उन्होंने हजरत खतीजा (राज़ी.) से शादी की; हज़रत खतीजा (राज़ी.)  चालीस साल की थीं जब उन्होंने हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) से शादी की।

[3] तबक़ात, 1/131.

[4] इब्न साद, तबक़ात 8/52-53; मुसनद, 6/211.

[5] इब्न साद, तबक़ात 8/58; बुखारी, 2/329; मुसनद, 6/211.

[6] तबक़ात, 8/83-83.

[7] सिरह, 4/296-297; तबक़ात, 8/115; इस्तीआब, 4/1853.

[8] बुखारी, तौहीद, 22.

[9] अहज़ाब, 37-38.

[10] तबक़ात, 8:89-90.

[11] अबू सुफियान अरब समुदायों में से एक के सरदार थे। वह उन सहाबह  में से हैं जिन्होंने मक्का की विजय के साथ इस्लाम धर्म अपना लिया।

[12] इब्ने अब्दुल-बर, अल-इस्तीआब, IV, 422; इब्ने हजर, अल इसाबा, IV, 299.

[13] सिरह, 3:307; तबक़ात, 8:117.

[14] सिरह, 3:351.

[15] तबक़ात, 8:123.

[16] देखें।”इस्लाम के अनुसार मरने वाले बच्चों की स्थिति कैसी है?”

[17] अहज़ाब, 6.

[18] हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) के साथियों (अनुयायियों) में, कई फतवे देने के लिए प्रसिद्ध सात लोगों में से एक हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) की पत्नियों में से एक हज़रत आयशा (राज़ी.) हैं।

[19] जुवेरिया (राज़ी.) मुस्तलिक क़बीला  के सरदार की बेटी हैं। मुसलमानों की बांदी  जुवेरिया (राज़ी.)  के साथ हजरत मुहम्मद (सल्ल.) की शादी को इस जनजाति द्वारा एक सम्मानजनक व्यवहार के रूप में देखा गया। इसके बाद, मुस्तलिक जनजाति सामूहिक रूप से इस्लाम में परिवर्तित हो गई और मुसलमान बन गई।