Free Porn
xbporn

buy twitter followers
uk escorts escort
liverpool escort
buy instagram followers
होमइस्लाम में सामाजिक जीवनइस्लाम का दृष्टिकोण पूंजीवाद के बारे में

इस्लाम का दृष्टिकोण पूंजीवाद के बारे में

पूंजीवाद एक आर्थिक प्रणाली है जो उत्पादन के साधनों के निजी स्वामित्व और लाभ के लिए उनके संचालन पर आधारित है।

यह प्रणाली, जो व्यक्तिगत लाभ की भावना पर स्थापित की गई है, यह ऐसे  कुछ भावनाओं की स्वतंत्रता पर आधारित है जो मनुष्य के निर्माण में उस पर रखी गई हैं।स्वामित्व और कब्जे की स्वतंत्रता, वादे की स्वतंत्रता, विचार और सोच, वाणिज्यिक संबंधों में अनुबंध की स्वतंत्रता इस प्रणाली की आधारशिला हैं।पूंजीवादी व्यवस्थाओं के आर्थिक अवसरों और श्रमिकों के अधिकारों के शोषण के कारण समाजवाद और साम्यवाद ग्रुप सामने आये हैं।

पूंजीवादी समाजों में, तथ्य यह है कि श्रमिकों को एक उप-औसत मजदूरी के लिए नियोजित किया जाता है, और बैंकों के माध्यम से गैर-श्रमिक धन का अधिग्रहण, अमीरों और गरीबों के बीच आर्थिक असमानता को गहरा करता है।एक ऐसे समाज का मूल्यांकन करना संभव नहीं है जिसमें दो समूह समृद्ध रूप से एक साथ नहीं रह सकते हैं, यह काफी सभ्य है।

इस्लाम द्वारा परिकल्पित आर्थिक व्यवस्था पूंजीवाद से काफी अलग है।पहली बात ये है की इस्लाम में समृद्धि की कोई सीमा नहीं है, अमीर होने के तरीकों और पूंजी जमा करते समय प्रिंसपल  के सिद्धांत हैं।

इस्लाम ने लोगों के लिए संपत्ति अर्जित करने की कोई सीमा निर्धारित नहीं की है।लेकिन इस्लामी अर्थशास्त्र की समझ के अनुसार, इस असीमता के भीतर मुसलमानों के सामने दो शर्तें रखी गईं हैं।पहली शर्त यह है कि मुसलमान यह नहीं भूलें कि उनके पास जो कुछ है वह उन्हें दि गई अमानत है।ये तथ्य  है की चूंकि मनुष्य पृथ्वी पर खलीफा (पृथ्वी पर अल्लाह का प्रतिनिधि) है, इसलिए उसे केवल अमानतदार के रूप में संपत्ति रखने का अधिकार है।दूसरी शर्त यह है कि उसे सौंपे गए सामान को सौंपने वाले – अल्लाह – की इच्छा के अनुसार खर्च किया जाना चाहिए।दूसरे शब्दों में ये कहलें की  एक मुसलमान अपने धन को खर्च करते हुवे; उसे इस्लाम के नैतिक मूल्यों, विशेष रूप से हलाल और हराम प्रावधानों, भाईचारे, सामाजिक और आर्थिक न्याय जैसे मुद्दों की उपेक्षा न करने पाए।इसके अलावा, उसकी संपत्ति और सर्वात इस्लामी मानदंडों के अनुसार अर्जित की जानी चाहिए।हम इन सीमाओं को इस प्रकार सूचीबद्ध कर सकते हैं:

  1. व्यापार में सत्यनिष्ठा सभी मामलों में बनाए रखा जाना चाहिए[1]
  2. मज़दूरों को समय परउनकी मज़दूरी देना अनिवार्य है[2]
  3. ग्राहक को गुमराह नहीं करना चाहिए[3]
  4. किसी और की संपत्ति को एम्बेड करना खियानत और चोरी है[4]
  5. उधार लेने के मामले में न्याय के पालन के लिए, क़र्ज़/ ऋण को लिखा जाना चाहिए और उसपर गवाह भी होने चाहिए[5]
  6. कर्ज एक जरूरत को पूरा करने और  समय पर चुकाया जाए तो बेहतर है, इसी के साथ साथ संकट में पड़े लोगों के कर्ज में राहत भी दी जानी चाहिए[6]
  7. मनुष्य ने जेतना काम किया है, वह उसका हकदार है[7]।चोरी और भ्रष्टाचार से कमाई नहीं बढ़नी चाहिए[8]
  8. रिश्वतखोरी से मामलों को जल्दी से निपटाने का प्रयास नहीं किया जाना चाहिए[9]
  9. धार्मिक भावनाओं का शोषण करके लाभ नहीं कमाया जाना चाहिए[10]
  10. मापने और तौलने में धोखा नहीं देना चाहिए[11]
  11. जुआ और सट्टेबाजी से दूर रहना चाहिए[12]
  12. इंट्रेस्ट/ रिबा से बचना और दूर रहना चाहिए[13]
  13. कीमतें बढ़ाने के उद्देश्य से माल स्टॉक करने से बचना चाहिए[14]

इस्लाम धर्म में, जो लोग केवल माल जमा करने के बारे में सोचते हैं और आलस्य से अपने धन को अपने हाथों में रखते हैं, वे भी अच्छी तरह से पदेखे  नहीं जाते हैं। इन लोगों का जिक्र कुरान में कुछ इस तरह से है।“जह्न्नम उस व्यक्ति को बुलाती है जिसने पीठ फेरी और मुँह मोड़ा,और (धन) एकत्र किया और सैंत कर रखा है[15]।“ इस आयत के ज़रिये  वे भयभीत किये गए हैं। अत्यधिक प्रेम से धन और संपत्ति में आसक्त होना भी इस्लाम में एक अपमानजनक व्यवहार है[16]

इस्लाम धर्म में ऐसी कई आयतें और हदीसें हैं जो ख़र्च करने, ज़कात देने, दान देने और दूसरों पर निर्भर न रहने के इरादे से काम करने और कमाने को प्रोत्साहित करती हैं। इनमें से कुछ का यहाँ ज़िक्र किया जाता है:

“और ख़ुदा ने जो तुममें से एक दूसरे पर तरजीह दी है उसकी हवस न करो (क्योंकि फ़ज़ीलत तो आमाल से है) मर्दो को अपने किए का हिस्सा है और औरतों को अपने किए का हिस्सा और ये और बात है कि तुम ख़ुदा से उसके फज़ल व करम की ख्वाहिश करो ख़ुदा तो हर चीज़े से वाक़िफ़ है[17]।”

“मनुष्य जो सबसे उत्तम वस्तु खाता है, वह अपनी कमाई से ही खाता है[18]।“

“ऐ अल्लाह, मैं तेरी पनाह माँगता हूँ कमज़ोरी, आलस्य, कायरता, दुराचार और कंजूसी से[19]।“

जैसा कि आप देख सकते हैं, पूंजीवाद का आधार भौतिकवाद पर आधारित है।मनुष्य के लिए जो उद्देश्य देखता है वह है धन और विलासिता में रहना और जैसा वह चाहता है उसका उपभोग करना। इसलिए, यह लोगों को असीमित स्वतंत्रता का क्षेत्र प्रदान करता है। इन्हीं कारणों से इस्लाम धर्म में पूंजीवादी विचारों को स्थान मिलना संभव नहीं है। इस्लाम की आर्थिक समझ साम्यवाद और पूंजीवाद की चरम सीमाओं से दूर मानव निर्माण की विशेषताओं के अनुसार एक संतुलित दृष्टिकोण है। जबकि इस्लाम धर्म काम करने, उत्पादन करने और लाभ कमाने को प्रोत्साहित करता है, यह इसे श्रेष्ठता का साधन बनाने के बजाय समाज के सभी वर्गों की सहायता और भलाई के साधन के रूप में उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करता है। इस प्रकार, कमाई करने वालों को ज़रूरतमंदों के लिए ज़िम्मेदार ठहराया गया है, और यह दोनों वर्गों के लिए लक्षित था कि उनकी आर्थिक स्थिति उन्हें अल्लाह के साथ उनके रिश्ते को मजबूत करने के लिए प्रेरित करेगी।


[1] निसा, 29; बकरा, 168.

[2] शुआरा, 183.

[3] शुआरा, 181-183.

[4] बकरा,60.

[5] बकरा,282.

[6] बकरा,280.

[7] नज्म, 39.

[8] मायेदा 38-39; निसा, 29.

[9] बकरा,188.

[10] तौबा, 34.

[11] मुतफिफीन, 1- 6.

[12] मायेदा, 90-91.

[13] बकरा,275.

[14] तौबा, 35.

[15] सूरह मआरीज, 18.

[16] तौबा, 24.

[17] निसा,32.

[18] अबू दाऊद, बूयु’ (इजारा), 77.

[19] मुस्लिम, ज़िक्र, 76.