Free Porn





manotobet

takbet
betcart




betboro

megapari
mahbet
betforward


1xbet
teen sex
porn
djav
best porn 2025
porn 2026
brunette banged
Ankara Escort
होमइस्लामी आस्था की मूल बातेंइस्लाम में मौत का तसव्वुर

इस्लाम में मौत का तसव्वुर

इस्लाम के अनुसार, मृत्यु; शून्यता शाश्वत अलगाव, गैर-अस्तित्व, संयोग या विनाश नहीं है।इस्लाम धर्म में मृत्यु को जीवन के अंत के रूप में नहीं, बल्कि अनंत जीवन की शुरुआत के रूप में देखता है।

इस्लाम में मृत्यु; स्थान का परिवर्तन जीवन के कर्तव्यों और दायित्वों का अंत है; यह स्वयं के अस्तित्व का अंत नहीं है, बल्कि एक अलग रूप में इस अस्तित्व की निरंतरता है[1]। उदाहरण के लिए, मिट्टी में बोए गए बीज के सड़ने और खुलने से उसकी हरियाली और जीवन में आने का परिणाम होता है। बीज के लिए, ऐसा क्षय, अर्थात् मृत्यु, बीज के रूप में उसके जीवित रहने से अधिक मूल्यवान है।

यदि मृत्यु के बिना जीवन क्रम पर विचार किया जाता है, तो यह समझा जाता है कि विश्व के अवसर (खाने, पीने और आश्रय) मानव आबादी का समर्थन नहीं कर सकते हैं। लोगों को भी, अपने पूर्वजों के पूर्वजों की देखभाल किए बिना अपना जीवन जीने का समय नहीं मिलेगा, जो बूढ़े हो चुके हैं और अपना स्वास्थ्य खो चुके हैं[2]। इस दृष्टि से मृत्यु लोगों के लिए एक वरदान है।

क़ुरान में मृत्यु की उत्पत्ति के कारण के रूप में निम्नलिखित आयत का उल्लेख किया गया है: “जिसने उत्पन्न किया है मृत्यु तथा जीवन को, ताकि तुम्हारी परीक्षा ले कि तुममें किसका कर्म अधिक अच्छा है? तथा वह प्रभुत्वशाली, अति क्षमावान् है”[3]। जैसा कि पद में देखा गया है, मृत्यु एक परीक्षा है; इसका अर्थ है एक ऐसी दुनिया में संक्रमण जहां इस दुनिया में अन्याय के कारण मरने वाले व्यक्ति और बुराई करने वाले व्यक्ति को समान स्थान पर लाकर कमजोरों के अधिकार मजबूत से छीन लिए जाते हैं।

मुस्लिम विद्वान मृत्यु को एक ऐसे स्थान पर एक व्यक्ति के प्रवेश के रूप में परिभाषित करते हैं जहां उसे इस दुनिया में अनुभव किए गए अन्याय के लिए जवाबदेह ठहराया जाएगा[4], जहां उसे उन कठिनाइयों के लिए इनाम मिलेगा जो उसने सामना किया है[5] और उसके परिणाम जीवन परीक्षण[6]। एक मायने में, मृत्यु सेना के सम्मोहक कर्तव्यों के अंत और सैनिक के निर्वहन की तरह है[7]

हजरत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने आज्ञा दी। “एक व्यक्ति जिस हाल में जीता है उसी हाल में मरता है और जिस हाल में मरता है उसी हाल में जीता है[8]।”मरने वाले लोगों में से कुछ सजा और दर्द के उम्मीदवार हैं, कुछ सुख और शांति के। यह स्थिति क्या निर्धारित करेगी कि ये लोग अपना जीवन कैसे जीना चुनते हैं:” हमने उसे राह दर्शा दी (अब) वह चाहे तो कृतज्ञ बने अथवा कृतघ्न[9]”।

इस्लाम में, दुनिया आख़िरत के क्षेत्र की तरह है[10]।दूसरे शब्दों में, जब तक कोई व्यक्ति इस दुनिया में अपने जीवन का सदुपयोग क्रेगा वह आख़िरत में अच्छी चीजों को प्राप्त करेगा। इसलिए संसार में जिया गया प्रत्येक क्षण अनमोल और क़ीमती है। क्योंकि लोग नहीं जानते कि वे कब मरेंगे। जो लोग उस तरह जीते हैं जैसे अल्लाह चाहता है जब तक कि मृत्यु का क्षण न आ जाए, मृत्यु के समय और मरने के बाद अल्लाह की दया का सामना करेंगे। इन लोगों की मृत्यु के क्षणों का वर्णन कुरान में इस प्रकार किया गया है:”जिनकी रूहों को फ़रिश्ते इस दशा में ग्रस्त करते हैं कि वे पाक और नेक होते हैं, वे कहते हैं, “तुम पर सलाम हो! प्रवेश करो जन्नत में उसके बदले में जो कुछ तुम करते रहे हो[11]।”

इस्लाम धर्म के अनुसार मृत्यु; यह ऐसी स्थिति नहीं है जिससे बचा जा सके और न ही यह वांछनीय स्थिति है। एक मुसलमान को मौत की इच्छा नहीं करनी चाहिए चाहे वह कितना भी पीड़ित क्यों न हो। क्योंकि अनुभव की गई कठिनाइयाँ भी परीक्षाएँ हैं, और इन परीक्षाओं को सहने वालों के लिए महान पुरस्कार हैं। वास्तव में, हजरत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने इस स्थिति के बारे में निम्नलिखित कहा: “तुम में से कोई विपत्ति के कारण मृत्यु की कामना न करे। यदि वह असाधारण संकट में है, जैसे कि वह मृत्यु की कामना करता है, तो उसे चाहिये के ऐसे कहे: ‘हे भगवान! जब तक जीवित रहना मेरे लिए अच्छा है, तब तक मुझे जीवित रहने दो, और जब मृत्यु मेरे लिए अच्छी हो तो मुझे मृत्यु दे दो[12]“।

प्रत्येक व्यक्ति को मृत्यु की वास्तविकता के लिए अपना आपको तैयार रखना चाहिए। हर मुसलमान के लिए मौत को याद करना और मौत के बाद जीवन के लिए तैयार रहना एक अच्छा काम है।वास्तव में, हजरत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने इस स्थिति को इस प्रकार व्यक्त किया है: “मृत्यु को याद रखें, जो स्वाद को नष्ट कर देती है”[13]।यहां पर किस भी चीज से लज्जत न लेने के बारे में नहीं बाल्की अल्लाह और ओस्कीओर जाने को याद दिला गया है।

एक मुसलमान का दूसरे मुसलमान पर जो अधिकार है, उनमें से एक यह है कि जब वह मरता है तो उसके अंतिम संस्कार में शामिल होना है: “एक मुसलमान के पास एक मुसलमान पर छह अधिकार होते हैं। जब आप उससे मिलें तो उसे सलाम करें, जब वह बुलाए तो उसके निमंत्रण पर जाएं, जब वह सलाह चाहता है तो सलाह दें, अगर वह छींकते समय अल्हम्दुलिल्लाह कहे, तो यरहामुकल्लाह (अल्लाह आप पर रहम करे) कहो, जब वह बीमार हो तो उसके पास जाओ, और जब वह मर जाएं तो उसका (अंतिम संस्कार) जनाज़ा की नमाज पढें”[14]

मरने वाले मरीज को प्रसन्न करने वाले और मृत्यु के बारे में प्रसन्न करने वाले शब्द कहे जाने चाहिए। क्योंकि अगर मरीज की मौत की सच्चाई नहीं भी बदली तो उसके दिल को सुकून तो कैम से कैम मिलेगा ही[15]।मरीज को पश्चाताप करने और वसीयत बनाने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।क्योंकि हजरत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने कहा, “किसी मुसलमान का यह काम नहीं है कि उसके साथ लिखित वसीयत के बिना दो रातें बिताएं”[16]

जो लोग आख़िरत में विश्वास नहीं करते, उनके लिए मृत्यु एक ऐसी स्थिति है जिसे टाला जाता है और बदसूरत के रूप में देखा जाता है। वास्तव में, कुरान में कहा गया है कि मृत्यु से कोई बच नहीं सकता है: “तुम जहाँ कहीं भी होगे, मृत्यु तो तुम्हें आकर रहेगी; चाहे तुम मज़बूत बुर्जों (क़िलों) में ही (क्यों न) हो”[17]

जो लोग अल्लाह और अखिरत के अस्तित्व पर विश्वास नहीं करते हैं, वे मृत्यु से डरते हैं, जैसे कि एक व्यक्ति को फांसी की मेज से डर लगता है। वास्तव में, कुरान में इन लोगों का वर्णन इस प्रकार किया गया है: कह दो, “मृत्यु जिससे तुम भागते हो, वह तो तुम्हें मिलकर रहेगी, फिर तुम उसकी ओर लौटाए जाओगे जो छिपे और खुले का जाननेवाला है। और वह तुम्हें उससे अवगत करा देगा जो कुछ तुम करते रहे होगे[18]“।यह आयत दर्शाती है कि मृत्यु से बचना और डरना मोक्ष का कारण नहीं है।


[1] बेदीउज्जमां सईद नूर्सि, पत्र, रिसाले-ए-नूर।
[2] तथा जिसे हम अधिक आयु देते हैं, उसे उत्पत्ति में, प्रथम दशा[ की ओर फेर देते हैं। तो क्या वे समझते नहीं हैं?(यासीन,68).
[3] सूरह अल-मुल्क,2.
[4]सूरह ज़िलज़ाल, 7-8.
[5] सूरह अल इस्रा,71.
[6] सूरह अली इमरान, 145.
[7] बेदीउज्जमां सईद नूर्सि, शुआ रिसाले-ए-नूर।
[8] मुनवी, फैजुल-कादिर शेरहुल-जामी-सगीर,V,663।
[9] सूरह अल-इन्सान,3.
[10] अजलुनी, कशफूल-खफा, I/412.
[11] सूरह अन नहल,32.
[12] तिर्मिज़ी, क़ियामत, 26.
[13] तिर्मिज़ी, ज़ुहद, 4.
[14] बुखारी, लीबास, 36.
[15] तिर्मिज़ी, तिब, 35.
[16] बुखारी, वसाया, I.
[17] सूरह अन निसा,78.
[18] सूरह अल जुमुअह,8.